Phytogeography in Hindi (पादप भूगोल)

इस Article में हम Phytogeography In Hindi ( पादप भूगोल ) के बारे में पढ़ेंगे। जिसमे पढ़ेंगे What is Phytogeography In Hindi (पादप भूगोल क्या है ?), History of Phytogeography in Hindi (पादप भूगोल का इतिहास ), Branches of Phytogeography in Hindi (पादप भूगोल ) की शाखाएँ आदि।

Phytogeography in Hindi ( पादप भूगोल )

जैव भूगोल की वह शाखा जो धरती पर मौजूद विभिन्न जातियों की वनस्पति के अलग-अलग जगहों पर फैलाव के विषय में अध्ययन करती है पादप भूगोल Phytogeography या वनस्पति भूगोल botanical geography कहलाती है। भूगोल की इस शाखा के अंतर्गत वनस्पति के विकास के अध्ययन के दौरान मौसम भूमि समुद्री स्थलाकृति नदियों झीलों और अन्य गूगल भी परिस्थितियों का गहन अध्ययन किया जाता है। साथ ही यह भी देखा जाता है इन सब चीजों का वनस्पति की विभिन्न जातियों पर क्या प्रभाव है।

वैसे Phytogeography एक ग्रीक शब्द है जो फाइटन मतलब पौधे और जो ग्राफी यानी भूगोल से मिलकर बना है। जिसका अर्थ है वनस्पतियों का वितरण है या वनस्पति भूगोल।

Father of Phytogeography in Hindi (पादप भूगोल के जनक )

अलेक्जेंडर वॉन हम्बोल्ट को “Phytogeography का जनक” कहा जाता है।

History of Phytogeography in Hindi (पादप भूगोल का इतिहास )

अलेक्जेंडर वॉन हम्बोल्ट को “फाइटोगोग्राफी के पिता” कहा जाता है। Phytogeography के इतिहास की बात करें तो प्रशिया के प्रकृतिवादी अलेक्जेंडर वॉन हंबोल्ट ने इस तरह के अध्ययन की खोज की। इसलिए उन्हें फाइटोगोग्राफी के पिता कहा गया है।

पादप भूगोल के अध्ययन में पौधों के वितरण के बारे में काफी कुछ चीजें स्पष्ट हो गई। आगे जाकर उनके साथ प्राकृतिक चयन के सिद्धांत के सह-खोजकर्ता अल्फ्रेड रसेल वालेस ने प्रजातियों की विविधता में अक्षांशीय ढाल पर कई महत्वपूर्ण तथ्य विज्ञान को दिए।

आगे जाकर इस बारे में और अधिक जानकारी हासिल करने हेतु 1890 में संयुक्त राज्य कांग्रेस ने एक अधिनियम पारित कर पौधों के पूरी दुनिया में भौगोलिक वितरण पर शोध हेतु एक अभियान चलाकर धन एकत्रित किया । संयुक्त राज्य अमेरिका के इस अभियान का पहला चरण द डेथ वैली एक्सपेडिशन था , जिसमें फ्रेडरिक वर्नोन कोविल , फ्रेडरिक फनस्टन , क्लिंटन हार्ट मरियम जैसेेे लोग शामिल थे।

Branches of Phytogeography in Hindi (पादप भूगोल की शाखाएँ )

फाइटोगोग्राफी की दो मुख्य शाखा है।

  1. Ecological phytogeography ( पारिस्थितिक फाइटोगोग्राफी )
  2. Historical Phytogeography ( ऐतिहासिक फाइटोगोग्राफी )
  1. Ecological phytogeography ( पारिस्थितिक फाइटोगोग्राफी )

पारिस्थितिक फाइटोगोग्राफी (Ecological phytogeography) एक फाइटोगोग्राफी की शाखा है जो पौधों के वितरण पैटर्न का अध्ययन करती है और उनके पर्यावरणिक कारकों से संबंधित होती है। इसका मुख्य उद्देश्य पौधों की नगरीयता और वनस्पति प्रकारों के स्थानिक वितरण के बारे में अध्ययन करना होता है।

पारिस्थितिक फाइटोगोग्राफी प्रदूषण, मृदा स्थिति, भू-भाग, और मानवीय गतिविधियों जैसे पारिस्थितिक कारकों के साथ पौधों के वितरण के संबंध में जानकारी प्राप्त करने का प्रयास करती है। इसका उद्देश्य पौधों और उनके पर्यावरण के बीच के संघर्ष और सम्बंधों को समझना होता है, जिसमें पौधों की अनुकूलन और पौधों के समुदायों के पर्यावरण पर प्रभाव शामिल होते हैं।

यह अध्ययन क्षेत्र आमतौर पर विभिन्न पारिस्थितिक शर्तों में पौधों के प्रजाति विविधता, प्रचुरता, और समुदाय संरचना पर डेटा संग्रह और विश्लेषण करने के माध्यम से आयोजित होता है। शोधकर्ता वनस्पति सर्वेक्षण, दूरस्थ संवेदन, और भूगोलीय सूचना प्रणाली (GIS) जैसी तकनीकों का उपयोग करते हैं, ताकि विभिन्न स्तरों पर, स्थानीय से वैश्विक तक, पौधों के वितरण पैटर्न का अध्ययन कर सकें।

Historical Phytogeography ( ऐतिहासिक फाइटोगोग्राफी )

यह शाखा पौधों के वितरण पैटर्न के ऐतिहासिक पहलुओं का अध्ययन करती है। यह शाखा पौधों के प्राचीन और आधुनिक समय में वितरण के बारे में जानकारी प्राप्त करने का प्रयास करती है और पौधों की नगरीयता और वनस्पति प्रकारों के वितरण में ऐतिहासिक प्रक्रियाओं का पता लगाने की कोशिश करती है।

ऐतिहासिक फाइटोगोग्राफी में, पौधों के प्राचीन वितरण के लक्ष्य से प्राकृतिक और सांस्कृतिक अवधारणाओं का अध्ययन किया जाता है। इसमें पौधों के पुराने रिकॉर्ड, वैज्ञानिक अध्ययनों, इतिहास और अर्किवों के आधार पर जानकारी को संकलित करके पौधों के प्राचीन वितरण पैटर्न को समझने का प्रयास किया जाता है।